SEO Hindi Tutorial – Complete Visual Guide For SEO 2019

SEO tutorial hindi

आज इस SEO Hindi tutorials में इस समय के समय में इंटरनेट और वेब साइट्स ने अपनी एक अलग जगह और पहचान बना ली है. अगर आप SEO learn करना चाहते है और SEO Basic tutorials Hindi में डाउनलोड करना चाहते है तो आप सही जगह है.

अब लोग इंटरनेट का इस्तेमाल सिर्फ अपने मनोरंजन के लिए नहीं करते बल्कि और भी बहुत सारे कारण है जो इन्हें इस डिजिटल प्लेटफॉर्म की तरफ खींच ले आते हैं. लोग लोग इंटरनेट पर इतना एक्टिव रहने लगे हैं कि अगर उन्हें एक सुई भी खरीदनी होती है.

तो वह पहले ऑनलाइन सर्च करते हैं. इसी प्रकार जो बिजनेस कंपनियां है वह भी डिजिटल प्लेटफॉर्म के महत्व को समझने लगी है और अपने बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए वेबसाइट और कई प्रकार के ऑनलाइन संसाधनों का प्रयोग करने लगी हैं.

डिजिटल प्लेटफॉर्म पर अपनी पहचान बनाने में जो एक चीज सबसे ज्यादा मदद करती है वह है SEO. SEO की फुल फॉर्म Search Engine Optimization है.

SEO  की मदद से व्यक्ति अपनी वेबसाइट की traffic  को बढ़ा सकता है और गूगल के Search Engine Result Page  पर अपनी एक पहचान  बना सकता है.  अगर एक वेबसाइट का SEO  ठीक प्रकार से किया गया है तो उसे गूगल के SERP  पर एक उच्च स्थान मिलता है जो कि  बिज़नेस की   ब्रांड वेल्यू को बढ़ाने में भी काफी मदद करता है.

SEO  सिर्फ बिज़नेस में ही  इस्तेमाल नहीं किया जाता बल्कि आजकल बहुत से लोग इसमें अपना करियर भी बनाने लगे हैं. SEO  मैं करियर बनाने के लिए जो कोर्स करना पड़ता है उसे Digital Marketing  कहा जाता है.  इसकी मदद से  व्यक्ति  अपने बिज़नेस और वेबसाइट को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कैसे बढ़ाए इसके बारे में सारी जानकारियाँ प्राप्त करता है.

 इस कोर्स को करने के लिए Online या Offline  क्लासेस भी लेनी पड़ती है और काफी फीस भी  देनी पड़ती है. अगर आप SEO  सीखना चाहते हैं लेकिन आपके पास इतना समय नहीं है कि आप क्लासेस जॉइन कर सकें  या फिर एक अच्छी खासी कीमत  इंस्टीट्यूट को दे सके तो आपके लिए यह tutorial बहुत कारगर साबित होगा.  

इस tutorial की खास बात यह है कि यह हिंदी में दिया गया है जिससे आपको किसी भी प्रकार की जानकारी को समझने में कोई परेशानी नहीं उठानी पड़ेगी.  तो चलिए शुरू करते हैं SEO Tutorial In Hindi.

SEO  सीखने के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि आखिर यह है क्या?  इसका इस्तेमाल कब कहां और कैसे किया जाता है?  और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों हो गया है?

 इसके साथ साथ SEO  काम कैसे करता है? इसकी जानकारी होना भी बहुत महत्वपूर्ण है?

SEO  है क्या? (What is SEO in Hindi)

learn seo

आपने यह नाम SEO  सुना तो बहुत बार होगा और काफी बार आपके मन में यह सवाल भी आया होगा कि यह आखिर है क्या?

 अगर ऐसा है तो यहां आपके सवाल का सही जवाब आपको मिल रहा है.  जैसा कि हमने आपको बताया कि SEO फुल फॉर्म Search Engine Optimization है.

यह एक प्रकार की  प्रोसेस है जिसका इस्तेमाल एक वेबसाइट की Rank  को बढ़ाने के लिए किया जाता है.  अब आप सोच रहे होंगे कि Rank  क्या होता है.  

जब भी हम Google  पर कोई  जानकारी के लिए सर्च करते हैं तो हमें बहुत सारी वेबसाइट के लिंक  सामने दिखाई पड़ते हैं  जो हमें  हमारे सवाल के अनुसार जानकारी प्रदान करते हैं.

गूगल पर  कई लाख वेबसाइट्स हैं  लेकिन फिर भी उस पहले पेज पर हमें  कुछ ही वेबसाइट दिखाई देती है और जो वेबसाइट था में सबसे पहले दिखाई देती हैं.

हम ज्यादातर उन्हीं से जानकारी लेना भी पसंद करते हैं.  

जिस क्रमांक में वह वेबसाइट दी गई होती है उस क्रमांक को Rank  कहा जाता है.  साधारण शब्दों में अगर बात कही जाए तो  यह एक ऐसा तरीका है.

जिसकी मदद से एक व्यक्ति अपनी वेबसाइट को गूगल के Search Engine Result Page पर  शुरुआती वेबसाइट्स में  जगह दिला सकता है.

serp

Top  पर होने की वजह से ज्यादा से ज्यादा लोग वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करते हैं जिसकी वजह से Traffic बढ़ती है.  इस Traffic को Organic Traffic भी कहा जाता है. अगर आप की वेबसाइट पर ज्यादा Traffic  है तो यह आपको एक अच्छी कमाई करने में भी बहुत मदद करती है.

SERP क्या होता है ?

SERP  को Search Engine Result Page  कहा जाता है.  जब आप Google  पर कोई भी  जानकारी के लिए कोई सवाल सर्च करते हैं.

SERP Full Form – Search Engine Result Page

तो आपके सामने एक पेज खुल कर आता है जिस पर कई सारे लिंक दिए गए होते हैं जिनके अंदर आपके सवाल के अनुसार  जानकारी प्रदान की गई होती है.

 यह पेज जिस पर यह इतने सारे लिंक  दिए गए होते हैं उसे Search Engine Result Page  कहते हैं.

Google serp

Organic और in-organic results क्या है ?

अभी हमने ऊपर Traffic  की बात कही और उस वक्त हमने एक शब्द का प्रयोग किया  जोकि था Organic.  गूगल के SERP  पर जो वेबसाइट  दी गई होती हैं वे दो प्रकार से List  की गई होती हैं.  पहला है Organic  और दूसरा है In-organic.

In-organic Listing  के लिए हमें Google को कुछ पैसे देने पड़ते हैं जिसके बाद हमारी वेबसाइट SERP  में दिखाई देती है.  दूसरा प्रकार है Organic Listing,  इसमें हमें किसी भी प्रकार की कोई भी कीमत अदा नहीं करनी होती.  

अगर आप  बिना पैसे दिए Organic Listing  की मदद से गूगल के SERP  पर आना चाहते हैं तो उसके लिए SEO का बहुत महत्वपूर्ण रोल है.  

बिना सही SEO practices किए आप SERP  के टॉप पर अपनी जगह नहीं बना सकते.

organic vs paid result

Learn SEO tutorial in hindi

आज के समय में  गूगल पर  1000000 से भी ज्यादा आर्टिकल और ब्लॉग को पब्लिश किया जाता है.  मान लीजिए आप एक जगह पर खड़े हैं.

जहां पहले से ही 1000000 लोग इकट्ठा हुए हैं,  तो ऐसे में अगर आपको किसी एक इंसान को खोजना हो या फिर उन 1000000 लोगों की भीड़ से निकलकर सबसे आगे पहुंचना हो तो आपको कितनी मेहनत करनी पड़ेगी.  

कुछ ऐसा ही काम करना होता है वेबसाइट  पर डालने वाले आर्टिकल्स को.  

अपने Unique Content और SEO  की मदद से  सबको पीछे छोड़ते हुए SERP  के Top  पर अपनी जगह बनानी होती है.

अगर आपका आर्टिकल या ब्लॉक गूगल में SERP पर टॉप में जगह बना लेता है.

तो फिर यह समझना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा कि कितने लोग आप की वेबसाइट पर आएंगे और उस आर्टिकल को पढ़ेंगे और जैसा कि हमने आपको बताया कि जितनी ज्यादा Traffic होगी उतना ही आपका फायदा होगा.  

अगर आप अपनी किसी भी वेबसाइट या आर्टिकल के लिए SEO  करना चाहते हैं  और सीखना भी चाहते हैं तो नीचे दिए गए Steps  आपकी काफी मदद करेंगे.  

तो चलिए शुरू करते हैं SEO Tutorials in Hindi.

सबसे पहले आपको अपनी वेबसाइट  या ब्लॉग को गूगल या फिर किसी अन्य Search Engine  पर Submit करना होगा.

अगर आपने कोई नई वेबसाइट या कोई नया ब्लॉग बनाया है तो जो सबसे पहला काम आपको करना है वह है किसी भी Search Engine पर उसे Submit  करना.  बहुत सारे Search Engine  हैं जिनकी आप मदद ले सकते हैं.

जैसे कि Google, Bing, Yahoo आदि.  जब आप गूगल पर या किसी और Search Engine  पर अपनी वेबसाइट को  रजिस्टर या Submit करते हैं.

तो उसकी सारी जानकारी  उस Search Engine  के  डेटाबेस में जाकर स्टोर हो जाती है.  

अब सवाल यह है कि Search Engine पर अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को Submit कैसे करें?

Google पर अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को Submit करने के 3 तरीके हैंजो कि इस प्रकार हैं:

  • Auto-crawling or Indexing की सहायता से
  • Backlinks create करके Google webmasters tool की मदद से
  • Google webmasters tool की मदद से

Indexing:

यह एक तरीका है जिसकी मदद से आप गूगल के डेटाबेस मेंअपनी वेबसाइट के पेजेस को सबमिट कर सकते हैं ताकि वह SERP पर दिख सकें. इसके लिएसबसे पहले आपको गूगल के search bar में जाकर Google webmaster tool लिखना होगा.

SERP मैं से आपको Google Webmasters वाले लिंक को select करना होगा और उस पर क्लिक करना होगा. इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जहां आपको अपने गूगल अकाउंट के साथ लॉगिन या फिर साइन अप करना होगा.  

अगले पेज पर आपको अपनी वेबसाइट का url  डालना होगा.  आपका URL  कुछ इस प्रकार होना चाहिए: (  http:// or https:// + your website .+ extension).

example- https://ishailesh.org/

यह डालने के बाद आपको “Add a property” नाम से दिए गए tab पर क्लिक करना होगा. इसके बाद आपको यह साबित करना होगा कि जो वेबसाइट का url आप डाल रहे हैं, आप ही उसी के व्यक्तिगत मालिक हैं.

add webmaster property

इसके बाद आपको HTML  file को डाउनलोड करना होगा और फिर अपनी वेबसाइट के Cpanel पर जाकर लॉगइन करना होगा. इसके लिए आपको www.yourdomain/cpanel साइट पर जाना होगा.

इसके बाद File Manager पर क्लिक करें और फिर public html नाम से दिए गए फोल्डर को सेलेक्ट करें. इस फोल्डर के अंदर आपको अपने domain का नाम दिखाई पड़ेगा.

जिस पर आपको Double click करना होगा. Google webmaster search console जो फाइल आपने डाउनलोड की थी.

public html

उसे अब आपको यहां अपलोड करना होगा. इसके बाद आपको वापस google webmaster search console के पेज पर जाना होगा और verify नाम से दी गई tab पर क्लिक करना होगा. जब आप यह सारी प्रक्रिया को संपूर्ण कर लेंगे तब आपके पास गूगल की तरफ से एक मैसेज दिखाई देगा.

जो कि कुछइस प्रकार होगा “Congratulations you have successfully verified……”

अपनी वेबसाइट के लिए उन Keywords का चुनाव करें, जो कि सबसे सही हो और आपकी दी गई जानकारी से connect करते हो.

मान लीजिए आप अपना ब्लॉग या वेबसाइट कपड़ों के लिए बना रहे हैं. ऐसे में आपको कुछ ऐसे Keywords का इस्तेमाल करना चाहिए जो कि आपके काम को प्रदर्शित करते हो जैसे कि Girl Clothes, Boy Clothes, Men Wear, Kid Wear आदि.

सही Keywords का चुनाव वेबसाइट को आगे बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी है. Keywords चुनते वक्त बहुत सारी बातों का ख्याल रखना जरूरी है.

जैसे कि इन Keywords की मदद से कितने लोग अपनी जरूरत की चीजों को गूगल पर या किसी और सर्च इंजन पर तलाश कर रहे हैं. सबसे ज्यादा बार कौन से Keyword को इस्तेमाल किया जा रहा है.

सही Keyword का चुनाव करने के लिए आप कुछ Online Tools  की मदद भी ले सकते हैं.

  • ubersuggest
  • keywordtool.io
  • Google Auto complete tool à Google Search bar

चुने गए Keywords  को  अपनी वेबसाइट  में प्रयोग करें:

  • आपने जो Keyword  चुने हैं  उनका प्रयोग आप अपने आर्टिकल के  title में करें.
  • आपने जो अपने आर्टिकल के लिए Meta  Description  तैयार किया है  उसमें भी आप चुने गए Keyword  का प्रयोग कर सकते हैं.
  • आप जो Headings  अपने तैयार किए गए  आर्टिकल में देंगे  उसमें भी आप Keyword  का प्रयोग कर सकते हैं.
  • अपने आर्टिकल के लिए आपने जो URL  का चयन किया है  उसने भी  Keyword  का प्रयोग करेंअपने दिए गए Content में ज्यादा Keyword का यूज करना avoid  करें.

अपनी वेबसाइट या ब्लॉग का sitemap  गूगल मे  submit करे:

अब आप सोच रहे होंगे कि sitemap क्या होता है? आपकी जानकारी के लिए हम बताना चाहेंगे कि sitemap एक प्रकार की.

xml file होती है जिसमेंहमारे द्वारा बनाए गए ब्लॉग और वेबसाइट की सारी जानकारी इकट्ठा होती है. इस फाइल की मदद से Google के crawlers  हमारी वेबसाइट की सारी की सारी  जानकारी को अपने डेटाबेस में सुरक्षित तरीके से जोड़ लेते हैं

अब हम आपको बताते हैं  कि आप Sitemap  कैसे बना सकते हैं?

अगर आप Xml sitemap  बनाकर Google  मैं add  करना चाहते हैं,  तो आपके लिए तीन आसान तरीके उपलब्ध है:

सबसे पहले आपको इस बात का चयन करना होगा कि आप की वेबसाइट या फिर आपका ब्लॉग WordPress  पर बने हैं या नहीं.  अगर आप की वेबसाइट या ब्लॉग WordPress  पर नहीं बना है तो  आपको  यहां दिए गए 3 steps  का प्रयोग करना है:

  • सबसे पहले  अपनी वेबसाइट या ब्लॉग का Sitemap  तैयार करें
  • Sitemap  तैयार होने के बाद  उसे अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर add  कर दे
  • add  करने के बाद  अपने sitemap  को search Engine (Google, Yahoo. Bing etc)  पर जमा करवा दें

अगर आपका ब्लॉग या वेबसाइट WordPress  पर बने हैं तो आपको नीचे दिए गए तरीके का इस्तेमाल करना है:

  • जो वेबसाइट या ब्लॉग WordPress पर बने होते हैं उनका sitemap  बहुत आसानी से Yoast Plus  की मदद से बनाया जा सकता है और फिर उसे add  किया जा सकता है.
  • इसके लिए सबसे पहले आपको Yoast Plug In  कंप्यूटर में install  करना होगा
  • इसके बाद आपको Sitemap Generate  करना होगाऔर आखिर में  अपने generate  किए हुए Sitemap  को Search Engine  पर add  कराना होगा

अपने ब्लॉग या वेबसाइट  पर दी गई Images को Optimize  करें:

हर वेबसाइट और ब्लॉग के लिए Image Optimization  बहुत ही ज्यादा जरूरी है. अपने articles और blogs  मैं हमेशा ध्यान रखें कि आप एक आकर्षित image का प्रयोग करें.  इमेज लगाने के साथ-साथ उसमें ALT tag में keywords का प्रयोग करना भी जरूरी है.


<img src=“image.jpg” alt=“image description” title=“dark chocolate”>

Google  या कोई भी Search Engine  आपकी डाली गई image को तब तक नहीं पहचानता जब तक आप उसे खुद एक पहचान नहीं दे देते, पहचान देने के लिए alt tag  का इस्तेमाल किया जाता है.

Best Tool for Image Optimization

अपने Blog  में व्यर्थ का (wate or not useful) content  ना डालें. कोशिश करें की आपका डाला हुआ Content Useful  हो और पढ़ने वाले यूजर्स को जानकारी प्रदान करने वाला हो:

अगर आप अपने Blog   या फिर article में  जानकारी युक्त और quality content  डालते हैं तो उस content को Google  या कोई और सर्च इंजन भी पसंद करेगा.

जब आपके blog  या articles का Content अलग और quality से भरा होता है तो वह आपको  ज्यादा से ज्यादा यूजर्स को आकर्षित करने में भी मदद करता है और फिर आपके visitors, Turning Customers  बन जाते हैं

जरूरी है  कि आप अपनी Website  के Blog पर नियमित रूप से Content  डालते रहें:

अगर आप अपनी वेबसाइट पर  नियमित रूप से quality के साथ Content  डालेंगे तो उससे आपको SEO मैं भी काफी मदद मिलेगी.  

नियमित रूप से Article अपने website पर अपलोड करेंगे तो उसकी वजह से Search Engines कोई है.

पता चलेगा कि आप की वेबसाइट या आपका ब्लॉग active है. इसके साथ साथ कई तरह के ब्लॉक और आर्टिकल्स होने की वजह से आपको interlinking  मैं भी मदद मिलेगी जो कि आपकी साइट पर यूजर का Time On Site भी बढ़ेगा.

content writing

छोटी के अपेक्षा  बड़े और जानकारी पूर्ण Blogs  लिखें:

जो आर्टिकल  छोटे होते हैं वह SEO Friendly  नहीं हो पाते. कोशिश करें कि आप अपने एक ब्लॉग में कम से कम 2000 से 3000 शब्द तक लिख सकें.  

लंबा ब्लॉग अपनी वेबसाइट पर डालने के कई फायदे होते हैं. एक अच्छे blog की मदद से आप अपने users  तक पूरी जानकारी पहुंचा सकते हैं. अधिक और सही जानकारी मिलने की वजह से users आप की वेबसाइट पर ज्यादा समय बिताते हैं  जिसकी वजह से ,

avergae content length
Image source: https://quicksprout-wpengine.netdna-ssl.com/images/wordcountcontent.jpg

गूगल को यह पता चलता है कि यूजर आपकी वेबसाइट को पसंद कर रहे हैं और उस पर अपना समय आपके दी गई जानकारी को पढ़ने में व्यतीत रहे हैं.

लंबा article या Blog लिखने का एक और फायदा है कि ज्यादा Content होने की वजह से आप उसमें Inter linking भी अच्छी तरह से कर सकते हैं

अपनी वेबसाइट पर दिए गए article और blogs को Internal  लिंक जरूर करें:

Interlinking  का साधारण सा मतलब है एक आर्टिकल को दूसरे आर्टिकल के साथ जोड़ना. Interlinking  की वजह से  user 01 आर्टिकल को पढ़ते-पढ़ते किसी दूसरे आर्टिकल पर भी navigate  हो सकता है.  

अगर आपके आर्टिकल में अच्छी तरह से interlinking  की गई है.

तो वह गूगल को यह बताने में मदद करता है कि आपका आर्टिकल या ब्लॉग जानकारी से परिपूर्ण है और इस पर  उपलब्ध जानकारी आधी अधूरी नहीं है.

Interlinking करने से website के आर्टिकल और blogs  को SEO Boost प्राप्त होता है.

Example – Online Fast तरीके से पैसे कैसे कमाए?

अब आप सोच रहे होंगे कि आप अपने आर्टिकल को Interlink  किस प्रकार से कर सकते हैं?  मान लीजिए आप ने अपनी वेबसाइट पर  कुछ आर्टिकल्स Haryana  में निकली हुई Jobs  के लिए बनाए हैं.

इन कुछ आर्टिकल्स में  कोई आर्टिकल तो  हरियाणा में  ग्रेजुएट लोगों के लिए निकली हुई जॉब की जानकारी दे रहा है तो कोई 12वीं पास छात्रों के लिए बनाया गया है.  

अभी अभी आप  ग्रैजुएट लोगों के लिए निकली हुई जॉब के लिए दिए हुए आर्टिकल में  12वीं पास वाले छात्रों के लिए जो हरियाणा की नौकरियां निकली है.

उसे interlink  कर दें  तो यूजर  का ध्यान आकर्षित जरूर होगा.  वह जरूर जानना चाहेगा  की  अपनी 12वीं कक्षा के basis  पर वह कौन-कौन सी नौकरियां प्राप्त कर सकता है क्योंकि अगर वह ग्रेजुएशन कर रहा है तो उसकी  12वीं पूर्ण हो चुकी होगी.

 इंटरलिंक करने के लिए  1 आर्टिकल के लिंक को दूसरे  आर्टिकल में दिए गए किसी keyword पर Hyper Link  की मदद से लगाया जाता है.

Hyper Link  लगाने के लिए CTRL+K  करने के बाद dialog Box मैं इस आर्टिकल के URL को Paste किया जाता है.

अपने Content को  अलग अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर Distribute  करें:

जितना जरूरी एक वेबसाइट पर Content  डालना है, उतना ही जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा यूजर उस दिए गए Content  को पढ़ें.

आज का दौर कुछ ऐसा हो गया है कि हर जगह बस compition ही है.  ऐसे में जरूरी है कि अगर यूजर हमारे कंटेंट तक नहीं पहुंच पा रहे हैं तो हम उन्हें approach  करें.

आपके आर्टिकल्स के backlinks  होना जरूरी है:

SEO में Backlinks  का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है. Backlinks  लगाते वक्त हमें बहुत सारी चीजों का ध्यान रखना जरूरी है जैसे कि – जिस वेबसाइट से हम  लिंक ले रहे हैं वह Trustworthy है या नहीं.  बहुत सी ऐसी वेबसाइट्स होती हैं.

 जिनके लिंक्स लगाने से  हमारी वेबसाइट की रैंकिंग डाउन हो जाती है तो इसलिए यह बहुत जरूरी है कि जिस भी वेबसाइट से हम लिंक उठा रहे हैं या ले रहे हैं वह Trustworthy  हो.

Backlinks SEO ranking बढ़ाने में भी बहुत मदद करते हैं इसलिए हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि जो भी लिंक हम ले रहे हैं वह हमारी फील्ड से ताल्लुक रखता  हो.  अगर आपकी वेबसाइट कपड़ों की है तो

आप कपड़ों से ताल्लुक रखने वाले लिंक का ही प्रयोग करें.  अगर आप कपड़ों की वेबसाइट में जॉब या पढ़ाई की बात करेंगे तो वह  उचित नहीं होगा.

अपने आर्टिकल पर आने वाले यूजर्स को कमेंट करने की सुविधा उपलब्ध करें. इसके लिए आपको Allow Comments  करना होगा.  आए हुए Comments  का जवाब भी दे:

हमारे आर्टिकल की SEO Ranking को बढ़ाने में Comments का एक बहुत बड़ा हाथ होता है. अपनी दी गई जानकारी को इस प्रकार आकर्षक बनाएं कि आपके पढ़ने वाले यूजर्स उस जानकारी को प्राप्त करने के बाद उसके लिए Positive Comments करें.

अपने यूजर्स को आग्रह करें कि वह इस जानकारी से जुड़े अगर कोई भी सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में अपनी बात लिखें.

जब कभी भी users कोई भी comment करें या कोई सवाल पूछे तो आप उसका reply जरूर करें. ऐसा करने से विजिटर्स के बीच आपका और आपकी वेबसाइट का विश्वास बढ़ेगा.

Social  media plugins का इस्तेमाल करना ना भूले

जब आप कोई अच्छी जानकारी पढ़ते हैं तो आप यह सोचते हैं कि आप उसे अपने परिजनों के साथ भी शेयर कर सके.  यही चीज आपके आर्टिकल्स के साथ भी लागू होती है.  

अगर आप के यूजर्स को आपकी दी गई जानकारी पसंद आती है तो वह चाहेंगे कि वह औरों के साथ भी शेयर कर पाए.  इसके लिए जरूरी है कि आप Social  media plugins  का इस्तेमाल करें.  

जब कभी भी यूजर किसी आर्टिकल या ब्लॉग को एक दूसरे के साथ शेयर करते हैं तो यह Search Engine  की नजरों में आता है और इस से बनाए हुए आर्टिकल की importance  भी बढ़ जाती है.  

इससे गूगल  आपके आर्टिकल को एक महत्वपूर्ण जानकारी का स्थान देता है और इसकी वजह से  आपके आर्टिकल की SERP Ranking  भी बढ़ जाती है.

ध्यान रखें कि आपके आर्टिकल का Title और उसमें दिया गया Description Meaningful  हो:

जो guidelines, Google  ने  दी हुई है उनके अनुसार एक आर्टिकल की SEO Ranking में Meta title और meta description  का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है.  आर्टिकल में सिर्फ Keywords  का प्रयोग करना ही जरूरी नहीं .

है बल्कि उन्हें आकर्षक तरीके से दिखाना भी जरूरी है जिससे यूजर को दी गई जानकारी अपने लिए फायदेमंद महसूस हो.

Meta title और meta description  देते वक्त इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है कि यह दोनों चीज है  आपके आर्टिकल से match  करती  हो.  

अगर Meta  title और meta description  अलग अलग होंगे तो यह आपके यूजर्स के बीच यकीन और आकर्षण नहीं बना पाएंगे जिसकी वजह से आपके Visitors  आर्टिकल में अपना  interest  खो देंगे.

अगर यूजर को interest  नहीं आएगा तो वह  आर्टिकल से बाहर निकल जाएगा जिसकी वजह से  Time On Site  तो कब होगा ही और उसके साथ साथ Bounce Rate  भी बढ़ जाएगा . Bounce Rate बढ़ने की वजह से साइट की Google Ranking पर भी प्रभाव पड़ेगा और वह decrease हो जाएगी.

Advance Meta Tag

अपने Blog की Speed का खास ख्याल रखें:

अगर आपकी वेबसाइट की speed slow है तो इसका सीधा असर आपकी वेबसाइट की SERP Ranking पर पड़ेगा. अगर आपकी साइट load होने में ज्यादा समय लेगी तो इस वजह से विजिटर उसे खुलने से पहले ही बंद कर देगा और इस वजह से आपकी साइट का Bounce Rate बढ़ जाएगा और आपकी साइट की Rank भी घट जाएगी.

Google AMP क्या है ब्लॉग पर कैसे लगाये?

जरूरी है कि आप की वेबसाइट हर प्रकार की device  पर responsive  हो:

Google  के द्वारा दी गई guidelines के अनुसार,  अगर आप की वेबसाइट  सभी प्रकार की devices  पर responsive  नहीं है तो इसका सीधा असर आपकी वेबसाइट की Ranking  पर पड़ेगा और वह घट जाएगी.  

आजकल ज्यादातर लोग कंप्यूटर की जगह मोबाइल या फिर टेबलेट का इस्तेमाल करते हैं और जो वेबसाइट non -responsive  होती है वह  इन devices  पर सही से काम नहीं कर पाती जिसकी वजह से Ranking  डाउन हो जाती है.  

इसके लिए बहुत जरूरी है कि अगर आपकी वेबसाइट किसी भी वजह से non -responsive  है तो आप उसे responsive  बनाएं.

Domain  खरीदते वक्त ध्यान रखें  कि आप एक लंबे समय के लिए निवेश करें

जिन वेबसाइट का Domain एक लंबे समय के लिए खरीदा जाता है.

वे SEO में अच्छा प्रदर्शन करती हैं.  एक लंबी अवधि के लिए Domain  खरीदना, Google  की नजरों में आता है और इससे Search Engine को यह पता चलता है कि वेबसाइट  बनाने वाला व्यक्ति अपनी वेबसाइट के लिए और इस पर किए जाने वाले काम को लेकर Serious  है.

Domain बुक करवाते समय कोशिश करें कि आप कम से कम 5 साल के लिए  उस domain  को खरीद ले.

Web Hosting with FREE domain

अपनी वेबसाइट पर Google Analytics install  जरूर करें:

Google Analytics आपको अपनी वेबसाइट  पर किए गए SEO  को analyse  करने में  मदद  करती है.  

Google Analytics एक ऐसा महत्वपूर्ण tool है जिसकी मदद से हम अपनी वेबसाइट का Bounce rate, Time spent on the site by visitors, exit pages etc.  सब analyse  कर सकते हैं.

Google Analytics क्या है और कैसे Setup करें ?

जब कभी भी हम अपनी वेबसाइट पर SEO  का काम करते हैं तो हम चाहते हैं कि हम उसे Analyze कर सके जिससे हमें पता चले कि हमारे  द्वारा दिए गए efforts  कितना रंग ला रहे हैं.  अपनी वेबसाइट के SEO Efforts को analyze  करने में Google Analytics  एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका  निभाता है.  

अपने SEO Efforts  को analyze करते समय बहुत जरूरी है कि हम कुछ बातों  की तरफ गौर करें,  जैसे कि:

  • हमारी वेबसाइट का Bounce Rate
  • जो Visitors  हमारी वेबसाइट पर आ रहे हैं उनका source  क्या है (source से हमारा  मतलब है Organically , Directly या Referall Websites)
  • यह भी जानना जरूरी है कि हमारी वेबसाइट पर आने के बाद यूजर्स किस तरह के आर्टिकल्स को सबसे पहले पढ़ते हैंऐसे कौन से आर्टिकल से जिनको यूजर पूरा टाइम दिए बिना ही बंद कर देते हैं, या फिर जिनकी वजह से हमारी वेबसाइट पर Bounce Rate बढ़ता है

ऊपर दिए गए सभी सवालों का जवाब हमें Google Analytics से मिल जाता है. अगर आप अपनी वेबसाइट पर Google Analytics add करना चाहते हैं तो आपको 03 steps फॉलो करने होंगे:

सबसे पहले तो आपको एक Google Analytics Account बनाना होगा.

इसके बाद आपको Tracking code लेना होगा।और आखिरकार Analytics Tracking code को अपनी website पर add करना होगा .

Bonus Tips:

Unlimited SEO Content, Keyword & Backlink Guide In Hindi

Organic Traffic क्या है? ब्लॉग पर 1000 views कैसे आता है?

Content Marketing क्या है? कैसे बनाये strategy

Best 100+ Free Link Building tools

तो दोस्तों एस SEO Tutorial in Hindi की मदद से आप आराम से SEO सीख सकते हैं और अपनी वेबसाइट को कामयाब बना सकते हैं.

हम आशा करते हैं कि आपको हमारी दी गई जानकारी पसंद आई होगी. अगर आप हमारी दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं और अपनी बात रखना चाहते हैं तो नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें.

अगर आपके मन में कोई भी सवाल है या आप इसके अलावा कोई अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो भी आप comments के जरिए हम से बात कर सकते हैं. हमें आपकी सहायता करने में खुशी होगी. धन्यवाद!!!

Spread the love
Posted in: seo

8 Replies to “SEO Hindi Tutorial – Complete Visual Guide For SEO 2019”

  1. Nice information keep it up i am Visit this site daily and this site provide you collection of Best Knowledge .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.